ASCI के दिशानिर्देशों के बाद कई सेलेब्स ने अपनी पोस्ट पर ‘पेड कोलैबरेशन’ या ‘एड’ का लगाया टैग

मुंबई: अखबार, TV और होर्डिंग में सेलेब के विज्ञापन देखकर फ़ौरन पता चल जाता है कि वे कुछ पैसे लेकर विज्ञापन कर रहे हैं, लेकिन सोशल मीडिया में ऐसा नहीं है। इस प्लेटफॉर्म में किसी भी ब्रांड को प्रमोट करके सेलेब न सिर्फ अपनी प्रत्येक पोस्ट से मोटी कमाई कर रहे हैं, बल्कि यह पेड कंटेंट है, यह बताने से भी परहेज करते हैं। हालांकि अब ASCI के दिशानिर्देशों के बाद कई सेलेब्स ने अपनी पोस्ट पर ‘पेड कोलैबरेशन’ या ‘एड’ का टैग लगाना आरम्भ कर दिया है। एडवर्टाइजिंग स्टैंडर्ड काउंसिल ऑफ इंडिया (ASCI) की 14 जून 2021 से लागू गाइडलाइन के मुताबिक, जिसके एवज में पैसे या किसी और वस्तु का लेनदेन हुआ हो, ऐसी प्रमोशनल पोस्ट के साथ पेड कोलैबरेशन या एडवर्टाइजमेंट का टैग लगाना अनिवार्य है।

इंस्टाग्राम पोस्ट से सबसे अधिक कमाई कर रहे शीर्ष 30 ग्लोबल सेलेब्स की लिस्ट होपर्स ने जारी की है। इसमें भारत से विराट कोहली दुनिया में 19वें नंबर पर हैं। उनकी हर पोस्ट से आमदनी पांच करोड़ रुपए बताई गई है। वहीं, प्रियंका चोपड़ा इस सूची में 27वें पायदान पर हैं और उनकी प्रत्येक पोस्ट 3 करोड़ की कमाई करती है। हालांकि डिजिटल मार्केटिंग इंडस्ट्री से संबंधित लोग बताते हैं कि सेलेब सोशल मीडिया प्रमोशन से मोटी कमाई कर रहे हैं, यह सच है, किन्तु हर पोस्ट का कितना पैसा है, ऐसा कोई रेट कार्ड नहीं है। अधिकतर मामलों में पूरा मल्टिपल मीडियम प्रमोशन पैकेज होता है। इस पैकेज में स्पष्ट बताया जाता है कि सोशल मीडिया पर क्या और कितनी मात्रा में पोस्ट डाली जाएंगीं। देश के सबसे बड़े इन्फ्लुएंसर भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान विराट कोहली ने एक प्राइवेट यूनिवर्सिटी को एंडोर्स करती एक पोस्ट डाली थी, किन्तु इस पर ‘पेड पोस्ट’ का टैग नहीं लगाया था। जिसके बाद विराट सोशल मीडिया पर ट्रोल हुए। ASCI ने नोटिस भेजा, इसके बाद विराट ने उस पोस्ट को एडिट करके उसमे ‘पेड पोस्ट’ का टैग लगा दिया।

इसके बाद तमाम बड़े सेलेब सतर्क हो गए हैं और पेड पोस्ट में पेड पार्टनरशिप का डिस्क्लेमर भी डाल रहे हैं, किन्तु यह भी सच है कि छोटे-मोटे इन्फ्लुएंसर नियम का उल्लंघन करते हैं, तो किसी का ध्यान नहीं जाता, लेकिन विराट जैसे बड़े सेलेब ऐसा करते हैं, तो आसानी से पकड़ा जाते हैं। दूसरी तरफ ऋतिक रोशन जैसे सेलेब पहले से ही पेड प्रमोशन वाली पोस्ट पर टैग लगा रहे हैं और अपने फॉलोअर्स के साथ पारदर्शिता बरत रहे हैं। ASCI ने एक फ्रेंच कंपनी के ट्रैकिंग सॉफ्टवेयर की सहायता ली है। जिससे अधिकतर पोस्ट्स पर नजर रखी जा रही है। आम जनता भी ASCI को किसी ऐसी पोस्ट के संबंध में शिकायत कर सकते हैं। ASCI के अनुसार, पेड पोस्ट टैग नहीं होने की 243 शिकायतें अब तक प्राप्त हो चुकी हैं। अधिकतर मामलों में नोटिस के बाद इन्फ्लुएंसर ने अपनी पोस्ट में आवश्यक सुधार कर दिया है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

four × one =

Back to top button