सरोजनीनगर क्षेत्र में अखिल भारतीय कवि सम्मेलन एवं अभिनंदन समारोह का आयोजन किया गया

बंथरा में देर शाम भारतीय सेना के सौर्य एवं बलिदान को समर्पित अखिल भारतीय कवि सम्मेलन एवं अभिनंदन समारोह का आयोजन किया गया। जिसके मुख्य अतिथि कारगिल युद्ध के अपराजेय योद्धा एवं परमवीर चक्र से सम्मानित राष्ट्र गौरव योगेंद्र सिंह यादव का फूल माला, अंग वस्त्र और प्रतीक चिन्ह भेंट कर स्वागत किया गया। बंथरा के एक निजी लान में आयोजित  किए गए इस कवि सम्मेलन में मुख्य अतिथि योगेंद्र सिंह यादव ने कारगिल युद्ध के दौरान हुई घटनाओ के संस्मरण से लोगों को अवगत कराया। उन्होंने बताया कि 16 वर्ष की आयु में वह सेना में भर्ती हुए और 19 वर्ष की आयु में ही कारगिल युद्ध की त्रासदी झेली।

लखनऊ(आरएनएस)

युद्ध के दौरान वहां पर उनकी आंखों के सामने क्या – क्या हुआ, उन्होंने इन सारी बातों से लोगों को अवगत कराया। इसी युद्ध को लेकर उन्हें परमवीर चक्र से सम्मानित किया गया था। देश के ख्याति प्राप्त कवि शशीकांत यादव के कुशल संचालन में आयोजित इस कवि सम्मेलन में बाराबंकी की शशि श्रेया ने अनुभवों की धुन बनाना गीत गाना आ गया, आंसुओं को आंख के भीतर छिपाना आ गया पंक्तियां सुनाई तो पूरा पंडाल तालियों की गड़गड़ाहट से गूंज उठा। अहमदाबाद के कवि हरेंद्र सिंह एहसास ने अगर युद्ध हो जाए तो पब्जी से युद्ध करोगे क्या सुनाया तो लोग अपनी हंसी नहीं रोक सके। वहीं काकोरी, लखनऊ के अशोक अग्निपथी ने पीठ ठोंका था कहा तात ने मान हमारा रख लेना, भारत मां की खातिर तुम जय हिंद लहू से लिख देना पंक्तियां पढ़ीं तो पूरा माहौल गमगीन हो गया। कानपुर के हेमंत पांडेय ने मेरे देश के नेताओं भारत माता की जय रैलियों पे नहीं सीमाओं पे गाओ, देश को बचाओ देश सच्चे वादों से चलेगा देश बातों से नहीं इरादों से चलेगा, सुनाया तो मौजूद लोगों ने उनकी इन पंक्तियों का भरपूर समर्थन किया। इसी बीच परमवीर चक्र विजेता योगेंद्र सिंह यादव ने भी अपनी कुछ पंक्तियां साझा की। उन्होंने कहा ये सांसों के तराने हिंद का नव गान गाएगा हमारा शौर्य लेकर वह चंद्रयान गाएगा, हमारे प्राण माता भारती के पग समर्पित हैं हमारे लहू की हर बूंद हिंदुस्तान गाएगा। इसी तरह धौलपुर, राजस्थान के रामबाबू सिकरवार ने जो वतन की खातिर मिटे उनको सलाम है जांबाज सैनिकों को कोटिश: प्रणाम है, आतंकवादियों को घर में घुसके मार कर दुनिया को बता दिया यह हिंदुस्तान है, पंक्तियां सुनाई तो पूरा पंडाल भारत माता की जय के नारे से गूंज उठा। कवि सम्मेलन में इसके अलावा अनेकों कवियों ने अपनी-अपनी पंक्तियां सुना कर लोगों की खूब तालियां बटोरी।

Rashtriya News

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

three × 2 =

Back to top button