कानपुर में जुमे की नमाज के बाद हुए बवाल के बाद शासन ने पुरे प्रदेश में जारी किया हाई अलर्ट,पुलिसकर्मियों की छुट्टियां रद

कानपुर में जुमे की नमाज के बाद हुए बवाल के बाद शासन ने प्रदेश में अलर्ट जारी किया है। ऐसे में नोएडा में पुलिसकर्मियों की छुट्टी शनिवार तक रद कर दी गई हैं। शांति व्यवस्था बनाए रखने के लिए जुमे लेकर पीस कमेटी के साथ बैठक की गई है।

एडिशनल डीसीपी नोएडा रणविजय सिंह का कहना है कि शुक्रवार को जुमा नमाज से पूर्व जिले में पीस कमेटी की बैठक की गई। दोनों पक्ष के धर्मगुरुओं को बुलाकर शांति व्यवस्था पर चर्चा की गई। जुमे की नमाज को लेकर भी बातचीत की गई।

यह भी बताया गया कि कोई घटना हुई तो सख्त कार्रवाई की जाएगी। सभी धर्मों का सभी लोग सम्मान करें। धर्मगुरु अपने अपने स्तर पर अपने क्षेत्र में लोगों को एक दूसरे के धर्म के प्रति सम्मान की भावना रखें। सांप्रदायिक सौहार्द बनाए रखने के लिए लोगों को जागरूक करें।

इंटरनेट मीडिया पर सामाजिक सद्भाव खराब करने के लिए असामाजिक तत्वों द्वारा आधारहीन अफवाह प्रसारित की जाती हैं, ऐसी अफवाहों पर ध्यान न दें। प्रबुद्ध लोग इस बारे में सभी को जानकारी दें। यदि इंटरनेट मीडिया से भ्रामक खबरें प्राप्त होती है तो फारवर्ड न करें। साथ ही फेस-1 कोतवाली पुलिस को भी सेक्टर-8, 9 और 10 के इलाकों के संवेदनशील प्वाइंट चिह्नित कर शुक्रवार को ड्यूटी लगाने का निर्देश दिया है।

जिले में धारा-144 लागू है लिहाजा प्रदर्शन और जुलूस निकालने की पाबंदी है। ऐसा करने वालों से सख्ती से निपटा जाएगा। समुदाय के लोगों से अपील है कि शुक्रवार की नमाज पढ़ने के बाद सीधा अपने घरों की जाए।

पैदल मार्च निकाल शांति बनाए रखने की अपील

नोएडा के सेक्टर-8 और सेक्टर-9 में डीसीपी नोएडा राजेश एस ने बृहस्पतिवार शाम पुलिस बल के साथ पैदल मार्च किया। शुक्रवार को होने वाली जुमे की नमाज से पूर्व समुदाय के लोगों को शांति बनाए रखने का संदेश दिया। डीसीपी ने बताया कि संवेदनशील इलाकों में अतिरिक्त पुलिस बल तैनात है।

ड्रोन की सहायता से भी निगरानी की जा रही है। मुख्य चौराहों, बाजारों व अन्य भीड़भाड़ वाले स्थानों पर पुलिस द्वारा पेट्रोलिंग करते हुए संदिग्ध वाहन व व्यक्तियों की चेकिंग की जा रही है। पुलिस मार्च के दौरान एसीपी रजनीश वर्मा भी मौजूद रहे।

बिना सूचना अनुपस्थित रहने वाला आरक्षी बर्खास्त

बेहतर काम करने वालों को पुरस्कार और विभागीय अपेक्षा के विपरीत काम करने वाले पुलिसकर्मियों के खिलाफ पुलिस आयुक्त आलोक सिंह के तेवर तल्ख हो गए हैं। कुछ दिन पूर्व ही जिले के दो कोतवाली प्रभारी को लाइन हाजिर करने के बाद एक सिपाही को जांच के बाद बर्खास्त कर दिया है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

20 + 5 =

Back to top button