स्वाइन फ्लू के बाद अब मुंबई में डेंगू और मलेरिया के बढ़ते जा रहे मामले..

स्वाइन फ्लू (Swine Flu) के बाद अब मुंबई में डेंगू (Dengue) और मलेरिया (Malaria) के मामले बढ़ते जा रहे हैं। पिछले चार दिनों में शहर में प्रतिदिन मलेरिया के 22 और डेंगू के 7 मामले सामने आ रहे हैं।

इसलिए पिछले चार दिनों में 89 मरीजों में मलेरिया और 29 मरीजों में डेंगू का पता चला है। विशेषज्ञ आगाह करते हैं कि अब रुक-रुक कर होने वाली बारिश मच्छरों के प्रजनन के लिए अनुकूल वातावरण प्रदान करती है, और इसलिए वेक्टर जनित रोगों के मामलों में वृद्धि की संभावना है।

सर एचएन रिलायंस फाउंडेशन अस्पताल में संक्रामक रोगों (Infectious diseases) के सह-निदेशक डॉ वसंत नागवेकर ने कहा, “मैंने डेंगू के कई मामले देखे हैं। बहुत कम रोगियों को अस्पताल में भर्ती होने की आवश्यकता होती है। रुक-रुक कर होने वाली बारिश मच्छरों के प्रजनन के लिए अनुकूल वातावरण प्रदान करती है।

इसलिए जिस किसी को भी 4 से 5 दिन से ज्यादा बुखार हो, उसे जांच के लिए जरूर जाना चाहिए।” हालांकि, विशेषज्ञों का कहना है कि पिछले दो सप्ताह में स्वाइन फ्लू के मामलों में गिरावट आई है। पिछले चार दिनों में स्वाइन फ्लू के सिर्फ तीन मरीज सामने आए हैं।

मास्किंग और सेल्फ हाइजीन जरूरी

बीएमसी की कार्यकारी स्वास्थ्य अधिकारी डॉ मंगला गोमारे ने कहा, ‘पिछले साल की तुलना में मलेरिया और डेंगू के मामले कम हैं। लेकिन हम सितंबर और अक्टूबर में रुक-रुक कर होने वाली बारिश के कारण मामलों में वृद्धि देख सकते हैं।

स्क्रैप और अन्य सामग्री जहां पानी जमा होता है, मच्छरों के प्रजनन के लिए एक अनुकूल जगह प्रदान करता है। इसलिए हमें स्वच्छता बनाए रखनी होगी। पिछले कुछ दिनों में स्वाइन फ्लू के मामलों में कमी आई है। मास्किंग (Masking) और सेल्फ हाइजीन (self hygiene) जारी रहनी चाहिए।”

बीएमसी अधिकारियों के मुताबिक डेंगू और मलेरिया के ज्यादातर मामले बी, एफ साउथ, जी नॉर्थ, डी और ई वार्ड से सामने आए हैं। डॉ हेमलता अरोड़ा, वरिष्ठ सलाहकार, संक्रामक रोग और आंतरिक चिकित्सा, नानावती

अस्पताल ने कहा, “सितंबर की शुरुआत से अक्टूबर तक हम डेंगू और मलेरिया के मामलों में वृद्धि देखेंगे। COVID-19 से पहले मलेरिया के मामले कम और डेंगू के मामले ज्यादा थे, लेकिन इस बार दोनों के मामले काफी ज्यादा हैं।

इन रोगों की रोकथाम के लिए सलाह

-एडीज मच्छरों के प्रजनन को रोकने के लिए, जो दिन काटने वाले होते हैं, कार्यस्थल और आसपास को साफ रखना चाहिए।

-मच्छर के लार्वा शांत पानी में रहते हैं। इसलिए ध्‍यान रखें कि पानी एकत्रित न हो इसके लिए जरूरी है कि टिन, थर्मोकोल के डिब्बे, नारियल के खोल, आसपास पड़े टायर जैसे सामान को हटा देना चाहिए।

– बुखार, सिरदर्द, चकत्ते, मांसपेशियों और जोड़ों में दर्द, उल्टी या दस्त से पीड़ित लोगों को डॉक्टर से सलाह लेनी चाहिए।

– स्‍वयं इलाज से बचें और अपने नजदीकी बीएमसी स्वास्थ्य पोस्ट/औषधालय/अस्पताल से परामर्श लें। यह महत्वपूर्ण है कि उपचार में देरी न करें क्योंकि इससे जटिलताएं हो सकती हैं और यहां तक कि मौत भी हो सकती है।

Related Articles

Back to top button