कोरोना के बाद अब और खतरनाक वायरस ने दी दस्तक,जानें क्‍या हैं इस वायरस के लक्षण

कोरोना वायरस के बाद एक और वायरस का खतरा बढ़ गया है। ब्रिटेन में मंकीपाक्‍स वायरस का पहला मामला मिला है, जिसका लिंक नाइजीरिया की यात्रा से है। ब्रिटेन के स्वास्थ्य अधिकारियों ने मंकीपाक्‍स वायरस के एक मामले की पुष्टि की है, जोकि चूहों जैसे संक्रमित जानवरों से मनुष्यों में फैलने वाला एक वायरस है।

ब्रिटेन की स्वास्थ्य सुरक्षा एजेंसी (यूकेएचएसए) ने कहा कि मंकीपाक्स एक दुर्लभ वायरल संक्रमण है, जो लोगों के बीच आसानी से नहीं फैलता है। आमतौर पर एक हल्की आत्म सीमित बीमारी होती है। इसमें अधिकांश लोग कुछ हफ्तों में ठीक हो जाते हैं। हालांकि, कुछ मामलों में गंभीर बीमारी हो सकती है।

यूकेएचएसए में क्‍लीनिकल ​​और उभरते संक्रमण के निदेशक डा कालिन ब्राउन ने शनिवार को कहा कि इस बात पर जोर देना महत्वपूर्ण है कि मंकीपाक्स लोगों के बीच आसानी से नहीं फैलता है। आम जनता के लिए समग्र जोखिम बहुत कम है। हम एनएचएस इंग्लैंड और एनएचएस इंप्रूवमेंट (एनएचएसईआई) के साथ काम कर रहे हैं, ताकि उन व्यक्तियों से संपर्क किया जा सके, जिनके संक्रमण की पुष्टि से पहले मामले के साथ निकट संपर्क था, ताकि उनका आकलन किया जा सके और सलाह दी जा सके। यूकेएचएसए और एनएचएस ने आयातित संक्रामक रोग के मामलों से निपटने के लिए अच्छी तरह से स्थापित और मजबूत संक्रमण नियंत्रण प्रक्रियाएं की हैं और इनका सख्ती से पालन किया जाएगा।

गाइज एंड सेंट थॉमस अस्पताल में संक्रामक रोगों के सलाहकार डा निकोलस प्राइस ने कहा कि सेंट थामस अस्पताल में विशेषज्ञ क्लिनिकल स्टाफ द्वारा सख्त संक्रमण रोकथाम प्रक्रियाओं के साथ मरीज का इलाज विशेषज्ञ आइसोलेशन यूनिट में किया जा रहा है। एहतियाती उपाय के रूप में यूकेएचएसए विशेषज्ञों ने कहा कि वे इंग्लैंड की राज्य वित्त पोषित राष्ट्रीय स्वास्थ्य सेवा (एनएचएस) के साथ मिलकर काम कर रहे हैं। ऐसे लोगों से संपर्क करेंगे, जो सूचना और स्वास्थ्य सलाह प्रदान करने के लिए व्यक्ति के निकट संपर्क में रहे होंगे। इसमें कई यात्रियों से संपर्क करना शामिल है, जिन्होंने ब्रिटेन के लिए एक ही उड़ान में रोगी के निकट यात्रा की थी

वायरस के क्‍या हैं लक्षण

प्रारंभिक लक्षणों में बुखार, सिरदर्द, मांसपेशियों में दर्द, पीठदर्द, सूजी हुई लिम्फ नोड्स, ठंड लगना और थकावट शामिल हैं। अक्सर चेहरे पर शुरू होता है। एक रश विकसित होता है, फिर शरीर के अन्य भागों में फैल जाता है। दाने बदल जाते हैं और अंत में पपड़ी बनने से पहले विभिन्न चरणों से गुजरते हैं, जो बाद में गिर जाते हैं।

यह वायरस तब फैल सकता है, जब कोई संक्रमित व्यक्ति के निकट संपर्क में हो। यह वायरस टूटी हुई त्वचा, श्वसन पथ या आंख, नाक या मुंह के माध्यम से शरीर में प्रवेश कर सकता है। एनएचएस ने कहा कि यह संक्रमण पश्चिम और मध्य अफ्रीका के कुछ हिस्सों में संक्रमित जंगली जानवरों से पाया गया है। माना जाता है कि यह चूहों से फैलता है।

2018 में मिला था पहला मामला

यूकेएचएसए ने कहा कि बिना लक्षणों वाले लोगों को संक्रामक नहीं माना जाता है, लेकिन एहतियात के तौर पर जो संक्रमित यात्री के करीब रहे हैं, उनसे संपर्क किया जा रहा है ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि अगर वे अस्वस्थ हो जाते हैं तो उनका जल्दी से इलाज किया जा सकता है। ब्र‍िटेन में 2018 में मंकीपाक्स वायरस की पहली बार घटना दर्ज की गई थी, तब से स्वास्थ्य अधिकारियों द्वारा काफी कम मामलों की पुष्टि की गई है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

1 × 3 =

Back to top button