भीषण बाढ़ से पाकिस्तान का एक तिहाई हिस्सा हुआ जलमग्न, UN ने बढ़ाया मदद का हाथ

पाकिस्तान में आई विनाशकारी बाढ़ से त्राहिमाम मचा हुआ है। देश के लोगों को बाढ़ की मार झेलने के साथ-साथ भोजन और अन्य वस्तुओं की भारी किल्लत का सामना करना पड़ रहा है। ऐसे में संयुक्त राष्ट्र (United Nations) ने कहा है कि पाकिस्तान में भोजन, साफ पानी और अन्य आपातकालीन राहत आपूर्ति प्रदान करना जारी रखेंगे। United Nations के इस प्रयास से आने वाले दिनों में पाकिस्तान में कुछ राहत की उम्मीद है। भीषण बाढ़ से पाकिस्तान का एक तिहाई हिस्सा जलमग्न हो चुका है।

UN ने बढ़ाया मदद का हाथ

United Nations के प्रवक्ता कनेको ने कहा, ‘हमारे सहयोगियों ने प्रभावित क्षेत्रों में स्वास्थ्य देखभाल सेवाएं प्रदान करने के लिए 14 मोबाइल क्लीनिक भी तैनात किए हैं।’ इसके अलावा, संयुक्त राष्ट्र की टीम और मानवीय सहयोगियों ने देश में शरणार्थी और अन्य समुदायों को टेंट, प्लास्टिक तिरपाल, खाना पकाने के स्टोव, कंबल, सोलर लैंप और स्लीपिंग मैट सहित 71,000 से अधिक आपातकालीन राहत सामग्री वितरित की है।

बाढ़ से संपर्क मार्ग टूटा

कनेको ने कहा कि सहायता की आपूर्ति और लोगों को घरों से निकाल कर सुरक्षित स्थानों पर ले जाने में बाधा उत्पन्न हो रही है। क्योंकि लोगों तक पहुंच की समस्या है। बाढ़ से 5,000 किमी से अधिक सड़कें और 243 पुल क्षतिग्रस्त या नष्ट हो गए हैं। पाकिस्तान में बाढ़ ने भीषण तबाही मचाई है। लोगों का संपर्क टूट गया है। 30 अगस्त को ESA की तस्वीरों के अनुसार, सामान्य से 10 गुना अधिक बारिश ने सिंधु नदी को अतिप्रवाह का कारण बना दिया है, जो कई किलोमीटर चौड़ी एक लंबी झील का निर्माण कर रही है।

11 लाख से अधिक घर क्षतिग्रस्त

प्रवक्ता के अनुसार, पाकिस्तान में 11 लाख से अधिक घर क्षतिग्रस्त या नष्ट हो गए हैं और 4,70,000 से अधिक लोग शिविरों में रह रहे हैं। रिकार्ड मॉनसून की बारिश ने पाकिस्तान के एक तिहाई हिस्से को जलमग्न कर दिया है। देश में जून से अब तक हजारों लोगों की जान चली गई हैं और विनाशकारी बाढ़ आई है, जिसने महत्वपूर्ण फसलों को बर्बाद कर दिया है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button