06 अक्टूबर 2021 का राशिफल : जाने किस राशि के लोगों के लिए शानदार हैं अगले 11 दिन

अगर आपकी राशि के बारे में आज का दिन अच्छा है, तो आप उसे सेलिब्रेट कर सकते हैं, वहीं अगर आज का दिन आपके लिए खराब है तो आप पंडित जी के दिए गए सुझावों को अपनाकर कुछ अच्छा कर सकते हैं।

राशिफल

मेष: धार्मिक और सांस्कृतिक कार्य में हिस्सेदारी रहेगी। जीवनसाथी का सहयोग मिलेगा। शासन सत्ता से सहयोग लेने में सफल होंगे। रचनात्मक प्रयास फलीभूत होंगे।

वृष: संतान के दायित्व की पूर्ति होगी। शिक्षा प्रतियोगिता के क्षेत्र में सफलता मिलेगी, लेकिन भाई-बहन से मतभेद हो सकते हैं। संयम से काम लें। गृह कार्य में व्यस्त रहेंगे।

मिथुन: व्यावसायिक प्रतिष्ठा बढ़ेगी। बुद्धि कौशल से किया गया कार्य संपन्न होगा। रिश्तों में मधुरता आएगी। यात्रा भी संभव। शिक्षा के क्षेत्र में आशातीत प्रगति होगी।

कर्क: गृह कार्य में व्यस्त रहेंगे। मैत्री संबंध प्रगाढ़ होंगे। अधीनस्थ कर्मचारी का सहयोग मिलेगा। पिता का प्रोत्साहन रहेगा। घरेलू और सामाजिक कार्यों में व्यस्त रहेंगे।

सिंह: चल या अचल संपत्ति में वृद्धि होगी। व्यावसायिक प्रयास फलीभूत होगा। राजनैतिक सहयोग लेने में सफल होंगे। बुद्धि कौशल से किए गए कार्य में प्रगति होगी।

कन्या: उपहार या सम्मान में वृद्धि होगी। धार्मिक प्रवृत्ति में वृद्धि होगी। देव दर्शन की दिशा में सफलता मिलेगी। किसी कार्य के संपन्न होने से आत्मविश्वास में वृद्धि होगी।

तुला: व्यावसायिक व्यस्तता बढ़ेगी। मन प्रसन्न होगा। दूसरे से सहयोग लेने में सफल होंगे। संपत्ति में वृद्धि का योग है। रचनात्मक प्रयास फलीभूत होंगे। नए संबंध बनेंगे।

वृश्चिक: स्थानांतरण, विभागी परिवर्तन की दिशा में सफलता मिलेगी। जीविका के क्षेत्र में प्रगति होगी। सामाजिक प्रतिष्ठा बढ़ेगी। जीविका के क्षेत्र में आशातीत प्रगति होगी।

धनु: संतान के दायित्व की पूर्ति होगी। उच्च अधिकारी या पिता का सहयोग रहेगा। व्यावसायिक योजना फलीभूत होगी। बुद्धि कौशल से किए गए कार्य में प्रगति होगी।

मकर: स्वास्थ्य के प्रति सचेत रहें। घर की महिला मुखिया या महिला अधिकारी का सहयोग मिलेगा। रचनात्मक प्रयास फलीभूत होगा। आपसी संबंध मधुर होंगे।

कुंभ: आर्थिक स्थिति में सुधार होगा। व्यावसायिक मामलों में प्रगति होगी। आर्थिक पक्ष मजबूत होगा। व्यर्थ की भागदौड़ हो सकती है। रचनात्मक प्रयास फलीभूत होंगे।

मीन: पारिवारिक दायित्व की पूर्ति होगी। धार्मिक या सांस्कृतिक कार्य में हिस्सेदारी रहेगी। संतान के कारण चिंतित हो सकते हैं। पिता अथवा धर्मगुरु का सहयोग रहेगा।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

four + nine =

Back to top button