भारतीय टीम के सलामी बल्लेबाज रोहित शर्मा ने कहा-अगर ऐसा होता तो 2019 में ही खत्म हो जाता मेरा टेस्ट करियर

भारतीय टीम के सलामी बल्लेबाज रोहित शर्मा ने शनिवार को कहा कि वह जानते हैं कि 2019 में टेस्ट मैचों में ओपनिंग करने का निर्णय खेल के सबसे लंबे प्रारूप में अपनी क्षमता साबित करने का उनके पास ‘आखिरी मौका’ था। रोहित ने शनिवार को अपना पहला विदेशी टेस्ट शतक बनाया और भारत ने चौथे टेस्ट मैच के तीसरे दिन 3 विकेट खोकर 270 रन बनाए और 171 रन की बढ़त भी हासिल की।

तीसरे दिन के खेल के बाद रोहित शर्मा ने वर्चुअल प्रेस कान्फ्रेंस में एक सवाल के जवाब में कहा, “मेरे दिमाग में कहीं न कहीं ये चल रहा था और मुझे पता था कि यह मेरे लिए भी आखिरी मौका था। बल्लेबाजी क्रम में एक और स्थान की कोशिश कर रहा था। जब बैटिंग में ओपनिंग करने का आफर आया तो मुझे इसकी भनक लग गई थी, क्योंकि मैनेजमेंट के अंदर किसी समय मेरे द्वारा पारी की शुरुआत करने की बात चल रही थी।”

उन्होंने आगे कहा, “इसलिए, मानसिक रूप से, मैं उस चुनौती को लेने के लिए तैयार था, यह देखने के लिए कि क्या मैं टाप आर्डर में अच्छा प्रदर्शन कर सकता हूं। मुझे पता है कि मैंने पहले मध्य क्रम में बल्लेबाजी की थी और चीजें वैसी नहीं हुईं जैसी मैं चाहता था, लेकिन मुझे पता था कि यह मेरे पास आखिरी मौका होगा, आप जानते हैं कि मैं कोशिश कर रहा हूं, जैसा कि प्रबंधन भी सोच रहा है। जब आप कोई खेल खेल रहे होते हैं तो आपको हमेशा उन मौकों, उन जोखिमों को उठाना पड़ता है। हां, आप कह सकते हैं कि यह मेरा आखिरी मौका था, अगर मैं सफल नहीं होता, तो कुछ भी हो सकता था।”

अपनी बात को आगे बढ़ाते हुए, रोहित ने बताया कि ओपनिंग ही उनके पास खुद को साबित करने का आखिरी मौका था। उन्होंने बताया, “और यह कहना कि 2019 में मेरा आखिरी मौका था, ऐसा मैं महसूस कर रहा था। मैं दूसरों और टीम प्रबंधन के बारे में नहीं जानता, क्योंकि टीम प्रबंधन ने स्पष्ट रूप से मुझसे कहा था कि जब आप पारी की शुरुआत करेंगे तो आपके पास एक लंबा समय होगा, लेकिन मेरे मानना था कि मेरे पास एक अवसर है। वनडे और टेस्ट में बहुत बड़ा अंतर है, मैंने नेट्स में मैदान से बाहर अनुशासित होने पर बहुत ध्यान केंद्रित किया, चाहे वह गेंद को छोड़ने के बारे में हो या एक सालिड डिफेंस करने के बारे में।”

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

eighteen + fifteen =

Back to top button