फर्जी प्रोफाइल बनाकर युवक कर रहे थे विवादित टिप्पणी, हुए गिरफ्तार

सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर एक शख्स कथित तौर पर विवादित टिप्पणी और सांप्रदायिक टिप्पणी पोस्ट कर रहा था। वह शख्स एक गुमनाम शख्स की प्रोफाइल पिक्चर का इस्तेमाल कर फर्जी प्रोफाइल बनाकर विवादित कमेंट पोस्ट कर रहा था। असम की होजई जिला पुलिस ने अपने ट्विटर पर लिखा, “@Hojai_Police ने आखिरकार असली अपराधी को पकड़ लिया है, जो 2019 से सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर विवादास्पद टिप्पणियां और सांप्रदायिक टिप्पणी पोस्ट कर रहा है।”

पुलिस ने यह भी कहा कि उसने एक गुमनाम व्यक्ति की फोटो को अपनी प्रोफाइल पिक्चर के रूप में इस्तेमाल करके अपने नाम ‘फारूक अहमद अंसारी’ के साथ एक फेसबुक प्रोफाइल अकाउंट संचालित किया, इस प्रकार गुमराह करने और हेरफेर करने की कोशिश की। इससे पहले, दिसपुर पुलिस ने एक सरकारी अनुबंध के लिए असम के मुख्यमंत्री के कथित रूप से जाली हस्ताक्षर करने के आरोप में चार लोगों को गिरफ्तार किया था। चारों व्यक्ति धेमाजी जिले के डेमो के रहने वाले हैं। आरोपी ने राज्य के जल जीवन मिशन के तहत एक सरकारी अनुबंध के लिए असम के मुख्यमंत्री के जाली हस्ताक्षर किए थे। गौरतलब है कि यह ठेका 3 करोड़ रुपये का था। अपराध में शामिल आरोपी पंकज गोगोई, दीपज्योति दत्ता, येमिनी मोहन और बिनीत पोद्दार हैं।

सूत्रों के मुताबिक पूरे घोटाले की योजना बनाने वाला और मास्टरमाइंड बताया जा रहा इमरान शाह फरार हो गया है। चारों लोगों ने असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा के फर्जी हस्ताक्षर कर सरकार से 3 करोड़ रुपये की रंगदारी वसूलने की योजना बनाई थी। राज्य सरकार के निर्देश पर गुवाहाटी नगर निगम (जीएमसी) की कार्मिक शाखा ने एक गुवाहाटी द्वारा अवैध नियुक्तियों की खबर के बाद गठित फैक्ट फाइंडिंग कमेटी की रिपोर्ट के आधार पर सभी 40 अवैध रूप से नियुक्त कर्मचारियों को निलंबित करने का फैसला किया है- आधारित मीडिया हाउस पिछले महीने सामने आया था। आदेश दिया था।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

twenty − 17 =

Back to top button