प्रशासन ने मानी राहुल गांधी की मांग,पहुंचे लखनऊ अपनी गाड़ी से सीतापुर के लिए निकले

उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी जिले में तो दंगल से पहले ही हिंसा हो गई, लेकिन सरकार और विपक्ष के बीच घटना के बाद से ही कुश्ती जारी है। यूपी के विधानसभा चुनाव से ऐन पहले ही हुई इस सनसनीखेज घटना के बाद विपक्षी दलों में पहले पीड़ित और घटनास्थल तक पहुंचने की होड़-दौड़ रविवार से ही शुरू हो गई और आज बुधवार को भी जारी है। पहले दिन रात में ही कांग्रेस महासचिव प्रियंका वाड्रा दिल्ली से लखनऊ पहुंचकर लखीमपुर के लिए रवाना हो गईं, लेकिन सीतापुर में रोक कर हिरासत में ले ली गईं। लखीमपुर खीरी जाने के ऐलान के बाद बहुजन समाज पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव सतीश चंद्र मिश्र को हाउस अरेस्ट कर लिया गया।

छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल को लखनऊ एयरपोर्ट से लौटा दिया गया। समाजवादी पार्टी मुखिया अखिलेश यादव और प्रसपा अध्यक्ष शिवपाल यादव लखनऊ में सड़क पर प्रदर्शन के लिए उतरे, जो हिरासत में लेकर बाद में छोड़ दिए गए। आम आदमी पार्टी के सांसद संजय सिंह भी सीतापुर में हिरासत में ले लिए गए। अब कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी भी लखीमपुर जाने के लिए लखनऊ पहुंचे हैं। पहले इन्कार के बाद अब यूपी सरकार ने सभी दलों के नेताओं को लखीमपुर खीरी जाने की अनुमति दे दी है।

लखीमपुर खीरी में हिंसा को लेकर यहां पढ़ें ताज अपडेट्स…

लखनऊ एयरपोर्ट पर कुछ देर धरने पर बैठने के बाद राहुल एयरपोर्ट टर्मिनल से बाहर निकले। प्रशासन ने उनकी मांग को मान लिया है। उनके साथ पंजाब और छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री व कांग्रेस के नेता रणदीप सिंह सुरजेवाला भी बाहर निकले। वह अपनी गाड़ी से सीतापुर के लिए रवाना हो गए हैं। 

राहुल गांधी के साथ लखनऊ एयरपोर्ट पर रणदीप सिंह सुरजेवाला भी मौजूद हैं। उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश सरकार की मंशा साफ है। वह राहुल गांधी को यहां से गिरफ्तार कर ले जाना चाहती है। राहुल गांधी को आप बेड़ियों में बांधकर नहीं ले जा सकते।

लखनऊ एयरपोर्ट पर धरने पर बैठे नाराज राहुल गांधी ने कहा कि सुरक्षाकर्मी मुझे एयरपोर्ट से बाहर नहीं निकलने दे रहे हैं। राहुल ने कहा कि निर्दोष किसानों को गाड़ियों से रौंदने वाले अपराधी आजाद घूम रहे हैं। उन्हें गिरफ्तार नहीं किया जा रहा है और हम लोगों को लखीमपुर खीरी जाने से रोका जा रहा है। क्या यही है उत्तर प्रदेश सरकार की अनुमति?

लखनऊ एयरपोर्ट पर राहुल गांधी और अन्य कांग्रेसी नेता धरने पर बैठ गए हैं। राहुल का कहना है कि वे अपनी गाड़ी से लखीमपुर खीरी जाएंगे। जबकि, प्रशासन का तर्क है कि सुरक्षा व्यवस्था को देखते हुए ऐसा संभव नहीं है। लखनऊ एयरपोर्ट पर राहुल गांधी अपनी गाड़ी से लखीमपुर जाने की जिद पर अड़े हैं। उन्होंने कहा कि मुझे क्या पता कि प्रशासन अपनी गाड़ी से कहां ले जाए। उनके साथ आए दोनों मुख्यमंत्री भी एयरपोर्ट लाउंज में विरोध स्वरूप बैठे हैं।

लखीमपुर खीरी में जान गंवाने वाले किसानों के स्वजन को पंजाब सरकार 50-50 लाख रुपये देगी। छत्तीसगढ़ सरकार भी 50-50 लाख रुपये देगी। पंजाब के मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी और छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने लखनऊ एयरपोर्ट पर राहुल गांधी की मौजूदगी में इसकी घोषणा की है।

सरकार से अनुमति मिलते ही लखीमपुर में राजनीतिक सरगरमियां तेज हो गई हैं। मृत किसानों के परिवारों से मिलने के लिए राजनीतिक दलों के आने को लेकर सुरक्षा के कड़े बंदोबस्‍त किए जा रहे हैं। प्रियंका वाड्रा, राहुल गांधी, आप नेत व सांसद संजय सिंह समेत कई नेताओं का आगमन होने वाला है। वहीं भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत भी प्रेस कांफ्रेंस का आयोजन करने जा रहे हैं।

लखीमपुर खीरी कांड की जांच के लिए एक सदस्यीय न्यायिक आयोग का गठन कर दिया गया है। आयोग पूरे घटनाक्रम की जांच कर सरकार को अपनी रिपोर्ट सौंपेगा।

लखनऊ एयरपोर्ट कांग्रेस नेता राहुल गांधी पहुंच गए हैं। उनके साथ छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल, पंजाब के मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी, कांग्रेस के राष्ट्रीय महासचिव केसी वेणुगोपाल और रणदीप सुरजेवाला भी हैं।

कांग्रेस महासचिव प्रियंका वाड्रा ने फिर से सरकार पर हमला बोला है। उन्होंने ट्वीट कर कहा कि किसानों को कुचलने वाले खुलेआम घूम रहे हैं। किसानों के लिए न्याय की आवाजों को भाजपा सरकार कैद कर रही है। लेकिन हम न्याय की आवाज दबने नहीं देंगे।

प्रियंका वाड्रा को करीब 60 घंटे की हिरासत के बाद सीतापुर पुलिस रिहा कर दिया है। वह रविवार देर रात से पीएससी गेटस हाउस में हिरासत में थी। प्रियंका वाड्रा अब राहुल गांधी के साथ लखीमपुर खीरी जा रही हैं।

उत्तर प्रदेश सरकार ने सभी दलों के नेताओं को लखीमपुर खीरी जाने की अनुमति दे दी है। विपक्ष के नेता लाव लश्कर नहीं ले जा सकते। हर दल के सिर्फ पांच-पांच लोगों को अनुमति दी गई है। 

लखीमपुर खीरी जा रहे हापुड़ के छिजारसी टोल पर सचिन पायलट का काफिला रोका गया। पायलट ने कहा कि हम कोई नियम नहीं तोड़ रहे। सरकार जबरदस्ती रोक रही। उन्होंने कहा कि प्रियंका गांधी वाड्रा को डिटेन करना गलत है।

jagran

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी को लखीमपुर खीरी जाने की अनुमति मिल गई है। राज्य सरकार ने राहुल को पांच सदस्यीय दल के साथ लखीमपुर खीरी जाने की अनुमति दे दी है। सरकार के प्रवक्ता सिद्धार्थ नाथ सिंह ने बताया कि अभी उच्च स्तरीय बैठक में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने यह निर्णय लिया है। इसी पांच सदस्यीय दल में प्रियंका वाड्रा भी जा सकेंगी। उधर, राहुल गांधी के साथ छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल, पंजाब के मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी और कांग्रेस के राष्ट्रीय महासचिव केसी वेणुगोपाल लखनऊ एयरपोर्ट पर पहुंच गए हैं। हाथरस कांड के बाद राहुल गांधी उत्तर प्रदेश आए हैं।

आम आदमी पार्टी के यूपी प्रभारी व राज्य सभा सदस्य संजय सिंह को पुलिस कस्‍टडी में लखीमपुर भेजा जा रहा है। वह कड़ी सुरक्षा के बीच बिसवां से निकल गए हैं। एसडीएम अनुपम मिश्रा ने यह जानकारी दी है।

लखीमपुर खीरी में किसानों को जीप से कुचलकर हत्या के मामले में आरोपी गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा टेनी के बेटे आशीष मिश्रा को आज पुलिस गिरफ्तार कर सकती है। उनके आवास पर पुलिस की एक टीम भेजी गई है।

दिल्ली से सटे यूपी गेट पर हलचल तेज हो गई है। यूपी गेट से कांग्रेस नेता सचिन पायलट की गाड़ियों का काफिला आगे के लिए निकल गया है। सचिन पायलट के साथ प्रमोद कृष्णम भी गाड़ी में मौजूद हैं। बताया जा रहा है कि सचिन पायलट का काफिला सीतापुर जाने के लिए निकला है।

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी, पंजाब के मुख्यमंत्री चरणजीत चन्नी, छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल लखीमपुर खीरी हिंसा में जान गंवाने वाले किसानों के परिवारों से मिलने के लिए फ्लाइट से दिल्ली से लखनऊ रवाना हो गए हैं।

लखीमपुर खीरी कांड पर दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि अभी तक हत्यारों को गिरफ्तार क्यों नहीं किया है? आखिर क्या मजबूरी है? उन्हें क्यों बचाया जा रहा है? इतनी भीड़ के सामने कोई इतने लोगों को कुचलते हुए निकल जाए और पूरा सिस्टम उस हत्यारे को बचाने में लग जाए। ऐसा तो फिल्मों में हम देखा करते थे। एक तरफ सरकार आजादी के 75 साल पूरे होने का जश्न मना रही है तो दूसरी तरफ नेताओं को लखीमपुर खीरी जाने से रोका जा रहा है। प्रधानमंत्री जी देश चाहता है कि आरोपी को गिरफ्तार किया जाए और केंद्रीय मंत्री को पद से हटाया जाए।

यूपी कांग्रेस प्रवक्ता अशोक सिंह ने कानून व्यवस्था पर सवाल उठाए हैं। उन्होंने आरोप लगाया कि कांग्रेस कार्यकर्ताओं को राहुल गांधी के स्वागत के लिए एयरपोर्ट नहीं जाने दिया जा रहा है। पुलिस कांग्रेस के नेताओ को रोक कर हिरासत में ले रही है। 

राहुल गांधी के लखनऊ आने से पहले यूपी सरकार ने कहा कि माहौल बिगाड़ने नहीं देंगे। दोपहर बाद प्रतिनिधि मंडल के साथ सांसद राहुल गांधी लखनऊ आ रहे हैं। इससे पहले सरकार की ओर से प्रवक्ता व एमएसएमई मंत्री सिद्धार्थ नाथ सिंह ने प्रेसवार्ता की। उन्होंने कहा कि किसी को माहौल नहीं बिगाड़ने दिया जाएगा। सरकार ने किसानों की मांगें मान ली हैं। मृतकाश्रित को मुआवजा और सरकारी नौकरी दी जा रही है।

उत्तर प्रदेश सरकार के प्रवक्ता व मंत्री सिद्धार्थनाथ सिंह ने राहुल गांधी के लखनऊ दौरे को लेकर कहा कि लखीमपुर खीरा आपको जाना है तो कुछ दिन बाद चले जाइएगा। आप दुखी परिवारों से मिलें, इसमें कोई आपत्ति नहीं है, लेकिन माहौल बिगाड़ने के लिए अनुमति नहीं दी जाएगी। हम चीजों को नियंत्रण में रखने के लिए काम कर रहे हैं और जल्द ही राजनीतिक नेताओं को लखीमपुर खीरी जाने की अनुमति देंगे, लेकिन फिलहाल जो जरूरी है वही किया जा रहा है। योगी सरकार दोषियों को गिरफ्तार करने और उनके खिलाफ सख्त कार्रवाई करने के लिए प्रतिबद्ध है।

राहुल गांधी ने प्रेस कांफ्रेंस के बाद लखीमपुर आने के लिए दिल्ली एयरपोर्ट के लिए निकल गए हैं। राहुल गांधी के साथ छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल, पंजाब के मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी और संगठन महासचिव केसी वेणुगोपाल भी आ रहे हैं। इधर, यूपी सरकार ने राहुल गांधी को लखीमपुर जाने की अनुमति नहीं दी है। बावजूद इसके कांग्रेस कार्यकर्ता उन्हें रिसीव करने के लिए लखनऊ एयरपोर्ट पर पहुंच रहे हैं।

कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने कहा कि लखीमपुर खीरी में धारा 144 लागू है, जो केवल पांट लोगों को रोकती है। हम तीन लोग जा रहे हैं। हमने उनको चिट्ठी लिख दिया है। विपक्ष का काम दबाव बनाने का है ताकि कार्रवाई हो। उन्होंने कहा कि पूरे देश के किसानों पर योजना बद्ध तरीके से हमला हो रहा है। जो किसानों का हक है उनसे छीना जा रहा है। यह चोरी खुलेआम सबके सामने हो रही है। इसीलिए देश के किसान दिल्ली के बाहर बैठे हैं। 

jagran

लखीमपुर खीरी हिंसा पर कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने कहा कि आज हम दो मुख्यमंत्रियों के साथ उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी जाएंगे और वहां की स्थिति को समझेंगे और किसानों के परिवारों का समर्थन करेंगे। उन्होंने दिल्ली पत्रकार वार्ता में कहा कि प्रियंका को नजरबंद किया गया है, लेकिन यह किसानों से जुड़ा मामला है। किसानों को जीप से कुचला जा रहा है, उनकी हत्या की जा रही है, इस घटना में एक केंद्रीय मंत्री और उनके बेटे का नाम सामने आ रहा है। प्रधानमंत्री लखनऊ गए लेकिन लखीमपुर खीरी नहीं गए। यह किसानों पर सुनियोजित हमला है। उन्होंने पत्रकारों से कहा कि इस मुद्दे को उठाने की आपकी जिम्मेदारी है, लेकिन जब हम सवाल पूछते हैं, इस मुद्दे को उठाते हैं, तो आप कहते हैं कि हम राजनीति कर रहे हैं।

लखनऊ के पुलिस आयुक्त ने कहा है कि सरकार ने राहुल गांधी को अनुमति देने से इनकार कर दिया है। अगर वह लखनऊ आते हैं, तो हम उनसे हवाई अड्डे पर लखीमपुर खीरी और सीतापुर नहीं जाने का अनुरोध करेंगे। लखीमपुर और सीतापुर के एसपी और डीएम ने हमें कानून-व्यवस्था की स्थिति के मद्देनजर उन्हें आने से रोकने का आग्रह किया है।

लखीमपुर खीरी में हिंसा के बाद अब पुलिस शांति-व्यवस्था कायम कराने में जुटी है। आइजी लखनऊ रेंज लक्ष्मी सिंह ने घटना को लेकर दर्ज कराए गए मुकदमों की निष्पक्ष व गुणवत्तापूर्ण विवेचना कराने के लिए एएसपी लखीमपुर खीरी अरुण प्रताप सिंह की अध्यक्षता में एक समिति गठित की है। समिति में सीओ व इंस्पेक्टर स्तर के अन्य अधिकारी भी शामिल हैं, जिनके पर्यवेक्षण में विवेचना होगी। सोमवार को केंद्रीय गृह राज्यमंत्री अजय मिश्र टेनी के बेटे आशीष समेत 14 लोगों के विरुद्ध हत्या का मुकदमा दर्ज हुआ था। वहीं मंगलवार को सुमित जायसवाल की ओर से अज्ञात लोगों के विरुद्ध हत्या की रिपोर्ट दर्ज कराई गई है। दोनों ही मुकदमों की गहनता से छानबीन कराई जा रही है।

बहुजन समाज पार्टी लखीमपुर खीरी में हुई हिंसा में चार मृत किसानों के मामले की कानूनी लड़ाई लड़ेगी। बसपा महासचिव सतीश चंद्र मिश्रा ने किसानों के मामले को निश्शुल्क लड़ने के लिए वरिष्ठ वकीलों की एक टीम गठित करने की घोषणा की। उन्होंने कहा कि यह टीम यह सुनिश्चित करेगी कि इस घटना का कोई भी दोषी बचने न पाए।

लखीमपुर कांड के बाद से पीड़ित परिवारों से मिलने की जिद पर अड़ी प्रियंका वाड्रा ने अपनी हिरासत को लेकर गंभीर सवाल खड़े किए हैं। उन्होंने बयान जारी कर आरोप लगाया है कि उन्हें गैर कानूनी तरीके से बलपूवर्क हिरासत में लिया गया। बिना किसी कानूनी आधार के उनके सांविधानिक अधिकारों का हनन करते हुए उन्हें सीतापुर पीएसी परिसर में कैद रखा गया है।

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी भी लखीमपुर खीरी नहीं जा सकेंगे। सरकार ने राहुल गांधी की अगुवाई में पांच सदस्यीय प्रतिनिधिमंडल के बुधवार को लखीमपुर खीरी जाने को लेकर मांगी गई अनुमति को मंगलवार देर रात खारिज कर दिया। इससे पहले लखीमपुर खीरी जा रहीं कांग्रेस महासचिव प्रियंका वाड्रा को सीतापुर में हिरासत में ले लिया गया था। 

लखीमपुर खीरी के तिकुनिया में हुए हिंसा के दौरान मृत किसान गुरुविंदर सिंह का बहराइच के मोहनिया गांव में बुधवार सुबह अंतिम संस्कार कर दिया गया। इस मौके पर किसान नेता राकेश टिकैत, गोरखपुर के आइजी अखिल कुमार, देवीपाटन मंडल के डीआइजी राकेश सिंह, जिलाधिकारी डा. दिनेश चंद, पुलिस अधीक्षक सुजाता सिंह भारी पुलिस बल के साथ मौके पर मौजूद हैं। परिवारजन की मांग के मद्​देनजर बुधवार को भोर में जिला मुख्यलय पर लखनऊ से आए चिकित्सकों के विशेष दल ने पोस्टमाटम किया। 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

2 × one =

Back to top button