जानिए दिवाली के समय किन-किन बातों का ख्याल रखना होता है ज़रूरी..

दिवाली वह समय होता है जब सभी अपने परिवार रिश्तेदारों और दोस्तों के साथ मिलकर जश्न मनाते हैं। लेकिन साथ ही ज़रूरी होता सुरक्षा का ख्याल भी रखना। तो आइए जानें कि दिवाली के समय किन-किन बातों का ख्याल रखना होता है ज़रूरी।

रोशनी का त्योहार दिवाली साल का वह समय है, जब शहर भर में आपको घर, ऑफिस और बाज़ार जगमग दिखते हैं। यह त्योहार लाइट्स, रंगोली, स्वादिष्ट खाने और रिश्तों के बारे हैं। इसलिए हमें अपने परिवार की सुरक्षा का भी पूरा ध्यान रखने की ज़रूरत होती है। सुरक्षा का मतलब सिर्फ यह नहीं है कि आपको सिर्फ दियों और पटाखों के आसपास ही सावधान रहना है। इसमें घर को सुरक्षित रखना, बुज़ुर्गों के लिए आराम सुनिश्चित करना, बच्चों को जलने से बचाना और जानवरों की रक्षा करना भी शामिल है। साथ ही अपने आसपास की जगह को साफ और स्वच्छ रखने पर भी फोकस करना चाहिए।

तो आइए जानें कि परिवार और दोस्तों के साथ दिवाली मनाते वक्त किन बातों का ख्याल रखना चाहिए?

1. लैम्प और दिये

  • दिये को परदों और दूसरी ज्वलनशील चीज़ों से दूर रखें।
  • तारों और इलेक्ट्रिक सामान के आसपास दिये या मोमबत्तियों को न जलाएं।
  • लैम्प जैसी चीज़ों ज़मीन या फिर किसी फ्लैट सतेह पर ही रखें ताकि वे गिरे नहीं।
  • बच्चों को दिये या मोमबत्तियों से दूर रखें।
  • खासकर छोटे बच्चों पर ध्यान दें, वे आग के आसपास न जाएं।
  • दरवाज़ों के आसपास ज़्यादा सामान न रखें, ताकि बच्चों को चोट न लगे।

2. पटाखे

  • सबसे अच्छा तो यही है कि आप पटाखे न जलाएं, खासतौर पर जिनमें से धुआं निकलता है या जो ज़्यादा शोर करते हैं।
  • बच्चों को पटाखों से होने वाले नुकसान के बारे में बताएं।
  • पटाखों को किसी अच्छी कंपनी या दुकान से ही खरीदें ताकि उनकी क्वालिटी अच्छी हो।
  • बच्चे अगर पटाखे जला रहे हैं, तो उनके आसपास ही रहें।
  • बिजली के खम्बे या तारों के आसपास पटाखे न जलाएं।
  • पानी की बालटी तैयार रखें।
  • बच्चों को ऐसे कपड़े न पहनाएं, जिनमें आग लग सकती है।

3. कूड़े का मैनेजमेंट

  • जले हुए पटाखों का सुरक्षित रूप से निस्तारण करें। आधे जले पटाखों से खतरा हो सकता है।
  • जली हुई चक्री, अनार, फूलझड़ियों को फेंकने से पहले पानी की एक बालती में डाल दें। उसके बाद ही फेंकें।
  • पटाखे जलाने के बाद जो कचरा हो जाता है, उसे साफ करें।

4. ध्वनि और वायु प्रदूषण

  • छोटे बच्चों, बुज़ुर्गों और जानवरों के बारे में सोचते हुए पटाखों का इस्तेमाल करने से बचें।
  • अगर आपके परिवार में किसी को धुएं से एलर्जी है, जो उन्हें घर पर ही रहने दें।
  • छोटे बच्चों को भी घर के अंदर ही रखें। घर के सारे दरवाज़े और खिड़कियां बंद कर दें।

5. जनवरों की सुरक्षा

अगर आपके घर पर पालतू जानवर हैं, तो उन्हें घर की ऐसी ज

Related Articles

Back to top button