चौरी चौरा कांड को लेकर शताब्दी महोत्सव मनाया गया, क्या है चौरी चौरा कांड जो 1922 में हुआ था।

आपको बता दे उत्तर प्रदेश में आज चौरी चौरा कांड को लेकर शताब्दी महोत्सव मनाया गया है। इस महोत्सव में भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वर्चुअल रिमोट से बटन दबाकर इस कार्यकर्म का उद्घाटन किया। जिसका भव्य कार्यक्रम प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के निर्देशन में गोरखपुर में आयोजन किया गया आपको बता दे इसी क्रम में यह कार्यक्रम जनपद एटा में भी चौरी चौरा कांड महोत्सव का आयोजन शहर के शहीद पार्क में आयोजन किया गया, जिसमें जिले के प्रभारी मंत्री अतुल गर्ग ने शिरकत की।

जिले में सबसे पहले सुबह आज स्कूली छात्र छात्राओं ने प्रभात फेरी निकाली जिसमें जिले के सभी जिला स्तरीय अधिकारी और प्रभारी मंत्री भी मौजूद रहे। उसके बाद प्रभारी मंत्री अतुल गर्ग ने शहीदों के चित्र पर माल्यार्पण कर कार्यक्रम की शुरुआत की गई, जहां मंत्री ने शहीदों के परिजनों को सम्मानित किया गया। लेकिन कार्यक्रम में जिला प्रशासन की लापरवाही भी सामने आई यहां कल से ही मौसम खराब होने के बावजूद भी कार्यक्रम में वाटर प्रूफ पांडाल नहीं लगाया गया जिसकी वजह से कार्यक्रम के बीच में आई बरसात में अफरा तफरी मच गई और बारिश में भीगते हुए भी शहीदों के परिजनों का सम्मान किया गया।

क्या कहा प्रभारी मंत्री ने 

एटा जिले के प्रभारी मंत्री अतुल गर्ग ने कहा  कि चौरी-चौरा कांड को लेकर 100 वर्ष पूरे होने पर  पूरे वर्ष भर कार्यक्रम किये जायेंगे। जिससे देश में आंदोलन को एक नई गति मिली थी और जिसके बाद देश को आजाद कराने में इन सभी क्रांतिकारियों को महत्वपूर्ण बल मिला था। कार्यक्रम में एटा के प्रभारी मंत्री अतुल गर्ग सहित सदर विधायक विपिन कुमार डेविड और जिले के डीएम सुखलाल भारती, और एसएसपी सुनील कुमार सिंह सहित जिले स्तरीय अधिकारी मौजूद रहे।
 

क्या है चौरी चौरा कांड? 

आप को बता दे चौरी चौरा कांड सन 1922 में हुआ था, ये कांड आज हीकी तारीख 4 फरवरी को हुआ था ,आपको बता दे ब्रिटिश भारत में संयुक्त पुलिस स्टेशन में आग लगा दी थी, जिससे उनके सभी कब्जेधारी मारे गए। ये घटना गोरखपुर जिले के चौरी चौरा में हुई थी, जब असहयोग आंदोलन में भाग लेने वाले प्रदर्शनकारियों का एक बड़ा समूह पुलिस के साथ भिड़ गया था। जवाबी कार्रवाई में प्रदर्शनकारियों ने हमला किया और आग लगा दी जिसकी वजह से उनका एक कब्जेदारी भी मारा गया। 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

sixteen − ten =

Back to top button