कोविड-19?अगर आपके आस-पास दिखे ऐसे लक्षण तो हो जाए सतर्क

देश में कोरोना संक्रमण के मामले फिलहाल भले ही कम आ रहे हैं हालांकि स्वास्थ्य विशेषज्ञों के मुताबिक खतरा अब भी टला नहीं है, लोगों को कोरोना से बचाव के सभी नियमों को लगातार पालन में लाते रहना चाहिए। चूंकि कोरोना की दूसरी लहर में लोगों को तमाम तरह की गंभीर स्वास्थ्य समस्याओं का सामना करना पड़ा था, ऐसे में अब भी बीमारी को लेकर डर का माहौल है। आलम यह है कि लोगों को सर्दी और खांसी होने पर भी कोविड-19 का डर सताने लगता है। हालांकि स्वास्थ्य विशेषज्ञ कहते हैं, कोविड-19 श्वसन से संबंधित समस्या है, कुछ मौसमी और अन्य बीमारियों के लक्षण भी इससे मिलते-जुलते हो सकते हैं, ऐसे में इस समय बीमारियों में अंतर को समझना सबसे आवश्यक है।

डॉक्टर कहते हैं, कोरोना की ही तरह साइनस संक्रमण के भी समान लक्षण हो सकते हैं जिसको लेकर लोगों में काफी भ्रम की स्थिति देखने को मिलती है। सतही तौर पर दोनों संक्रमणों के लक्षण कमोबेश एक जैसे ही होते हैं, हालांकि जब आप गहराई से देखें तो दोनों में अंतर करना आसान हो जाता है। आइए आगे की स्लाइडों में जानते हैं कि इन दोनों रोगों में कैसे अंतर किया जा सकता है?

कोविड-19 और साइनस
स्वास्थ्य विशेषज्ञों के मुताबिक कोविड-19 और साइनस के ज्यादातर लक्षण समान हो सकते हैं। सामान्यतौर पर नाक और सिर के अंदर मौजूद साइनस नलिकाओं में सूजन के कारण साइनस की दिक्कत होता है। इस स्थिति में बलगम को बाहर निकालना मुश्किल हो जाता है जिसके कारण बंद नाक की समस्या हो सकती है। वहीं कोरोनावायरस संक्रमण में भी इसी तरह से साइनस डक्ट में सूजन और सिरदर्द की समस्या होती है। दोनों में मुख्य अंतर यह है कि साइनसाइटिस के संक्रमण को दिखने में अधिक समय लग सकता है जबकि कोविड-19 के लक्षण जल्द ही नजर आने लगते हैं। 

कोविड-19 और साइनस के कुछ लक्षण हो सकते हैं समान
स्वास्थ्य विशेषज्ञों के मुताबिक चूंकि कोविड-19 और साइनस दोनों ही ऊपरी श्वसन प्रणाली के संक्रमण हैं, इसलिए दोनों के कुछ लक्षण समान दिख सकते हैं। दोनों ही संक्रमण की स्थिति में 
लोगों को बहती या बंद नाक, सिरदर्द, गले में खराश, खांसी, बुखार और थकान की समस्या हो सकती है। इन्हीं लक्षणों के कारण लोगों के लिए इन दोनों बीमारियों में अंतर कर पाना सामान्यतौर पर कठिन हो जाता है।

संक्रमण साइनस के बारे में जानिए
स्वास्थ्य विशेषज्ञों के मुताबिक साइनस इंफेक्शन, सर्दी और फ्लू के मौसम में अधिक होते हैं। इसके अलावा धूम्रपान करने वाले या सर्दी-मौसमी एलर्जी के शिकार लोगों में साइनस की समस्या ज्यादा हो सकती है। हालांकि कोविड-19 में ऐसा नहीं है, यह किसी को भी कभी भी हो सकता है। कुछ ऐसे लक्षण हैं जो सिर्फ साइनस में होते हैं कोविड-19 में नहीं, इनके आधार पर रोग की पहचान करने में आसानी हो सकती है। साइनस की स्थिति में सामान्य लक्षणों के साथ –
गाल के ऊपरी हिस्से, माथे या आंखों के अंदरूनी हिस्से के आसपास दबाव महसूस होता है। 
दांत दर्द और सांस से बदबू आने की समस्या हो सकती है। 
नाक से अलग रंग को द्रव निकल सकता है। 
सामान्यतौर पर कोविड-19 में यह लक्षण नहीं होते हैं। 

कोविड-19 के विशेष लक्षण
कोरोना संक्रमण की स्थिति में लोगों में कुछ ऐसे लक्षण देखे जाते हैं, जो साइनस में नहीं होते हैं। कोविड-19 के लक्षण तेजी से विकसित होते हैं, वायरस के संपर्क में आने के बाद लक्षण दिखने में करीब सात से दस दिन का समय लगता है। कोरोनावायरस संक्रमण में बिना नाक बहने या बंद नाक के भी गंध और स्वाद न आने की समस्या होना सबसे आम है। कोविड-19 के कई लक्षण इसे साइनस से अलग बनाते हैं। 
सांस लेने में कठिनाई।
शरीर में दर्द और दर्द
पाचन संबंधी समस्या।
गंध और स्वाद न आने की दिक्कत

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

20 + seven =

Back to top button