कोरोना से लड़ने के लिए नई पहल, सेना में काम कर चुके भूतपूर्व चिकित्सा अधिकारियों की होगी भर्ती

‘टूर ऑफ ड्यूटी’ योजना के तहत, 2017 और 2021 के बीच रिटायर हुए 400 पूर्व एएमसी/एसएससी चिकित्सा अधिकारियों को अधिकतम 11 महीने की अवधि के लिए अनुबंध के आधार पर भर्ती की जा सकती है। इसके लिए रक्षा मंत्रालय ने पूर्व आर्मी मेडिकल कोर (एएमसी), शॉर्ट सर्विस कमीशन (एसएससी) चिकित्सा अधिकारियों की भर्ती के लिए आर्म्ड फोर्सेज मेडिकल सर्विसेज महानिदेशालय को आदेश जारी किया है।

इस जानकारी के संबंध में जारी एक आदेश में कहा गया है कि सेवानिवृत्ति के समय प्रदान वेतन से मूल पेंशन में कटौती करके एक निश्चित मासिक एकमुश्त राशि प्रदान की जाएगी, साथ ही जहां भी विशेषज्ञ वेतन ज़रूरी होगा वह दिया जाएगा। यह राशि अनुबंध की अवधि के लिए अपरिवर्तित रहेगी और किसी अन्य भत्तों का भुगतान नहीं किया जाएगा। भर्ती किए जाने वाले चिकित्सा अधिकारियों को नागरिक मानकों के अनुसार चिकित्सकीय रूप से फिट होना अनिवार्य है।

बता दें कि रक्षा मंत्रालय ने मौजूदा कोविड-19 की स्थिति से उबरने के लिए नागरिक प्रशासन की सहायता हेतु अतिरिक्त जनशक्ति जुटाने के लिए कई कदम उठाए हैं। एएफएमएस ने पहले ही विभिन्न अस्पतालों में स्पेशलिस्ट, सुपर स्पेशलिस्ट एवं सहयोगी स्टाफ समेत अतिरिक्त डॉक्टरों की तैनाती कर दी है, जबकि एएफएमएस के शॉर्ट सर्विस कमीशन्ड डॉक्टरों को दिनांक 31 दिसंबर, 2021 तक सेवा विस्तार दिया गया है जिससे 238 और डॉक्टरों ने संख्या बढ़ी है। हाल ही में एएफएमएस से सेवानिवृत्त चिकित्सा पेशेवरों को भी स्वास्थ्य पेशेवरों के कार्य बल को और मजबूत करने के लिए फिर से तैनात किया गया है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

three + sixteen =

Back to top button