कानपुर में ट्रिपल मर्डर, घर के अंदर ही दंपती और बेटे की गला काटकर हत्या की 

कानपुर के व्यापारी की गोरखपुर में हत्या की जांच सीबीआइ से कराने की उत्तर प्रदेश सरकार की सिफारिश के 12 घंटे के अंदर ही कानपुर शहर में ट्रिपल मर्डर से सनसनी फैल गई। यहां पर परचून की दुकान चलाने वाले के साथ ही उसकी पत्नी तथा बेटे की गला काटकर हत्या कर दी गई। वारदात को अंजाम देने के बाद बदमाश घर के मेन गेट पर ताला लगा दिया और मृतक की बाइक लेकर भाग निकले। एक साथ तीन हत्‍याओं ने पुलिस के लिए बड़ी चुनौती पेश की है। 

jagran

कानपुर शहर के फजलगंज में शनिवार की सुबह दंपती और उनके 12 साल की बेटी की हत्या की घटना से सनसनी फैली गई। तिहरे हत्याकांड की जानकारी होते ही पुलिस और फोरेंसिक टीम ने पहुंचकर जांच शुरू की है। वहीं घर के बाहर लोगों की भीड़ लगी हुई और राजनीतिक पाटियों के नेता भी घटनास्थल पर पहुंच गए हैं। दंपती घर पर ही बाहर बड़े भाई के नाम से परचून की दुकान चलाकर परिवार पाल रहा था। पुलिस ने परचून दुकानदार, उसकी पत्नी और बेटे का शव बरामद करके फॉरेंसिक जांच शुरू कराई है। पुलिस अफसर भी मौके पर पहुंच गए हैं।

jagran

फजलगंज चौराहे से गोविंद नगर के रास्ते पर उपनिदेशक विद्युत सुरक्षा कार्यालय के पास मकान में प्रेम किशोर, पत्नी ललिता देवी और 12 वर्षीय बेटे नैतिक के साथ रह रहे थे। मकान के बाहर ही बड़े भाई राजकिशोर जनरल स्टोर के नाम से परचून की दुकान चलाकर परिवार का भरण पोषण करते थे। शनिवार की सुबह लगभग 8:30 बजे पड़ोसी राजेश ने प्रेमकिशोर के भाई  राजकिशोर को फोन किया तो उनकी बेटी निकिता ने बात की। राजेश ने उसे बताया कि राजकिशोर के घर के बाहर ताला लगा है और एक व्यक्ति उनकी बाइक ले जाते दिखा है। इसपर राजकिशोर परिवार के साथ घर पहुंचे तो मकान और दुकान पर ताले लगे मिले। मोबाइल फोन पर कॉल किया लेकिन किसी ने रिसीव नहीं किया। इसके बाद पुलिस को सूचना दी गई।

jagran

मौके पर आई पुलिस दुकान के ताले तोड़कर घर के अंदर दाखिल हुई तो नजारा देखकर सभी दंग रह गए। मकान के अंदर प्रेमकिशोर, उनकी पत्नी और बेटे के रक्तरंजित शव पड़े थे। तीनों के सिर पर किसी भारी वस्तु से हमला करके हत्या की गई और सिर काे पॉलिथीन से कसकर बांधा गया था। तीनों के शवों को एक जगह लाने के बाद कंबल डालकर हत्या फरार हो गया। तिहरे हत्याकांड की जानकारी के बाद डीसीपी क्राइम सलमान ताज पाटील भी पहुंचे और डॉग स्क्वायड व फॉरेंसिक टीम को बुलाया गया। घटना की जानकारी होते ही लोगों की भीड़ एकत्र हो गई। पुलिस अधिकारियों का मानना है कि हत्यारों ने घटना को लूटपाट दर्शाने की कोशिश की है लेकिन यह लूट नहीं बल्कि पूरी प्लानिंग के साथ पति, पत्नी और बच्चे की हत्या की गई है। हत्या के कारणों का पता लगाया जा रहा है।

jagran

शव उठाने को लेकर स्वजन ने किया हंगामा

फारेंसिक टीम से जांच के बाद शवों को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया तो मृतक के भाई और स्वजन ने हंगामा किया। स्वजन ने शवों को दिखाए बगैर मनमाफिक काम करने का आरोप लगाते हुए हंगामा किया और शव वापस लाने की मांग पर अड़ गए। कार्यवाहक पुलिस कमिश्नर, डीसीपी क्राइम सलमान ताज पाटिल समेत कई पुलिस कर्मी मान मनौवल में लगे रहे, लेकिन स्वजन अपनी मांग पर अड़े थे। आधे घंटे की मशक्कत के बाद पुलिस ने स्वजन को सड़क से हटाया। बाद में अपनी गाड़ियों से सभी को पोस्टमार्टम हाउस भेजा गया।

जरा भी छल किया तो दे दूंगा जान

भाई राजकिशोर का आरोप है कि परिवार के बिना जिम्मेदार लोगों के पहुंचे ही पुलिस ने अपने तरीके से काम किया है। न तो मौके पर कुछ देखने दिया न ही शवों की स्थिति दिखाई कि कैसे मेरे भाई और उसके परिवार को मारा गया। पुलिस ने जरा भी छल करने का प्रयास किया तो अपनी जान दे दूंगा।

ललिता से की थी दूसरी शादी

मूलरूप से उन्नाव जिले के बैजनाथ खेड़ा के रहने वाले प्रेम किशोर ने ललिता से दूसरी शादी की थी। करीब सोलह साल पहले सड़क हादसे में पहली पत्नी गीता देवी की मृत्यु हो गई थी। हादसे में गीता की मौत के समय उनके दो बच्चे थे। प्रेम किशोर ने उस समय पांच साल के बेटे पुनीत और तीन साल की बेटी प्रीति के सिर से मां का साया उठने के बाद ललिता से दूसरी शादी की थी। प्रेम किशोर से शादी के बाद ललिता ने नैतिक को जन्म दिया था।

विधायक और सपा नेता भी पहुंचे : तिहरे हत्याकांड की सूचना मिलने के बाद विधायक सुरेंद्र मैथानी मौके पर पहुंच गए, वहीं सपा नेता विकास यादव भी मौके पर पहुंच गए हैं।

कानपुर में बढ़ा अपराध का ग्राफ, दो दिन में पांच हत्याएं

कानपुर में बीते 48 घंटे में पांच लोगों की हत्या से कानपुर पुलिस कमिश्नरेट की कार्य प्रणाली पर बड़ा सवाल उठने लगा है। यहां पर 30 सितंबर को सचेंडी रौतेपुर निवासी धर्मेन्द्र उर्फ सोनू ठाकुर की टिकरा बाबा मार्केट में गोली मारकर हत्या कर दी गई। इसके बाद एक अक्तूबर को रात 10 बजे बर्रा दो सब्जी मंडी में बीच चौराहा सपा नेता हर्ष यादव की गोली मारकर हत्या कर दी गई। अब दो अकटूबर को अहिंसा के पुजारी महात्मा गांधी की जयंती पर फजलगंज में एक ही परिवार के तीन लोगों की हत्या हो गई। कानपुर में गोरखपुर हत्याकांड की आंच अभी ठंडी भी नहीं पड़ पाई है कि शहर में अपराध का ग्राफ बढ़ता जा रहा है। कानपुर के सचेंडी थानाक्षेत्र में टिकरा गांव पास दो दिन पहले भाजपा कार्यकर्ता और बिल्डिंग मैटीरियल कारोबारी की हत्या के दूसरे दिन ही तिहरे हत्याकांड से शहर में सनसनी फैली गई है। टिकरा गांव में बाबा मार्केट के पास गुरुवार को पंचायत चुनाव की रंजिश में भाजपा कार्यकर्ता और भवन निर्माण सामग्री के कारोबारी रौतेपुर गांव के 28 वर्षीय धर्मेंद्र सिंह उर्फ सोनू को दिन दहाड़े गोली मार दी गई थी, उसकी अस्पताल में मौत हो गई थी। पुलिस मुकदमा दर्ज करके आरोपितों की तलाश कर रही है। इस घटना के दूसरे दिन तिहरे हत्याकांड से सनसनी फैल गई है। पुलिस के लिए शहर की कानून व्यवस्था कायम रखना चुनौती बन गया है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

ten + sixteen =

Back to top button