कपिल शर्मा के शो में क्यों नहीं गए महाभारत के भीष्म पितामह मुकेश खन्ना?

वर्तिका अरोड़ा/लखनऊ:

बीते दिनो छोटे परदे के मशहूर सीरियल ‘द कपिल शर्मा शो’ पर ‘महाभारत'(Mahabharat)  सीरियल का रियूनियन हुआ। इस कार्यक्रम में टीवी कलाकार मुकेश खन्ना (Mukesh Khanna) नहीं आए। जब मुकेश खन्ना से पूछा गया कि वह इस कार्यक्रम में क्यूं नहीं पंहुचें तो उन्होने बताया कि “कपिल शर्मा जैसे पोपुलर शो में कौन नहीं जाना चाहता, मगर मैं नहीं जाऊंगा क्यूंकि  कपिल शर्मा का शो फूहड़, अश्लील और डबल मीनिंग के जुमलों से भरपूर होता है। उनके शो में ये लंबे समय से चलता आ रहा है। लोगों को हंसाना अच्छी बात है, मगर उसमें शालीनता होनी चाहिए, अश्लीलता नहीं। मुकेश खन्ना ने महाभारत में भीष्म पितामह (Bhishma Pitamah) का अहम किरदार अदा किया था।

टीवी कलाकार मुकेश खन्ना ने अपनी बात को आगे बढ़ते हुए कहा कि “हंसाना गलत नहीं है। आज के समय में किसी को हंसाना बहुत अच्छी बात है, मगर उनका जो तरीका है, वह गलत है, इस बात पर थोड़ा ध्यान केन्द्रित होना चाहिए। इसीलिए जाने से इंकार कर दिया”।

मुकेश खन्ना ने अपने इंस्टाग्राम पर लिखा है कि ‘इस शो में काफी फूहड़पन रहता है, डबल मीनिंग शब्दों का इस्तेमाल किया जाता है। इसमें मर्द-महिलाएं चीप हरकतें करते हैं। सिद्धू और अर्चना पुराण सिंह पर निशाना साधते हुए उन्होनें लिखा कि “मेकर्स इस शो में एक शख्स को बैठा देते हैं जिनका काम सिर्फ हे हे कर के हंसना होता है। जिनकी हंसी भी असली नहीं होती है। इससें पहले भाई सिद्धू इस काम के लिए बैठे हुए थे। अब बहन अर्चना ऐसा कर रही हैं और उनका काम क्या है? बस बैठ कर हंसना। उन्होंने लिखा कि मैं उधारण देता हूँ कि शो कितना घटिया है, मुकेश ने अरुण गोविल से पूछा कि, आप बीच पर नहा रहे हो, बीच पर एक बंदा चिल्ला कर बोलता है अरे देखो राम जी भी वीआईपी उंडेर्वेयर पहनते हैं, तो आप क्या कहेंगे। अरुण गोवेल जी श्री राम की इमेज लेकर घूमते हैं, दुनिया उन्हें राम के रूप में देखती है, कपिल उनसे कैसे यह घटिया सवाल पूछ सकते है। मैंने सिर्फ प्रोमो देखा जिसमें अरुण जी ने मुस्कुरा दिया। मुकेश खन्ना ने कहा मैं होता तो कपिल का मुह बंद कर देता मैं इसीलिए शो पर नहीं गया। 

कपिल ने मुकेश खन्ना पे निशाना साधते हुए कहा- “जब पूरी दुनिया कठिन दौर से गुजर रही है तब भी मैं और मेरी टीम ने लोगों के चेहरे पर मुस्कुराहट लाने का काम कर रही है। अब यह व्यक्ति पर निर्भर करता है कि उसे किस बात में खुशी ढूंढनी है और किस बात में कमी। कपिल ने कहा मैंने खुशी को चुना है और मैं अपने काम पर ध्यान देना पसंद करता हूं और भविष्य में भी ऐसा ही करूंगा।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

11 − one =

Back to top button