आयुर्वेद में ऐसे कई तरीके हैं जो शरीर की गर्मी को कम करने में कर सकते हैं मदद

आयुर्वेद में ऐसे कई तरीके हैं जिन्हें अपनाकर आप आसानी से शरीर की गर्मी को कम कर सकती हैं, आइए जानते हैं एक्सपर्ट के सुझाव।

know ayurveda tips to reduce heat of body

गर्मी का मौसम लगभग हर कोई पसंद नहीं करता है। इस मौसम में स्किन की समस्या, पसीने, डिहाइड्रेशन आदि समस्या आम बात है। इसके अलावा गर्मी के मौसम से सबसे अधिक शरीर गर्म होने की समस्या होती रहती है। बॉडी को गर्मी से लड़ने के लिए डाइट के साथ-साथ कुछ अन्य चीजों पर भी अधिक ध्यान देने की ज़रूरत होती है। जैसे-हरी सब्जियों का सेवन, अधिक पानी का सेवन आदि करना। इन गर्मियों में शरीर की गर्मी को कम करने के लिए आप आयुर्वेदिक टिप्स की भी मदद ले सकती हैं। जी हां, इस संबंध में आयुर्वेदिक विशेषज्ञ डॉक्टर रेखा राधामोनी हमें बता रही हैं कि आयुर्वेद के माध्यम से शरीर की गर्मी को कैसे आप कम कर सकती हैं, तो आइए जानते हैं।

Dhanyaka Himam आयुर्वेदिक टिप्स 

ayurveda tips to reduce heat of body inside

डॉक्टर रेखा राधामोनी के अनुसार प्राचीन आयुर्वेदिक लेखों में इसका उल्लेख है कि धान्यक हिम यानि धनिया और मिश्री का मिश्रण शरीर की गर्मी को कम करने के लिए एक बेहतरीन आयुर्वेदिक उपचार हो सकता है। इसके इस्तेमाल से आसानी से शरीर की गर्मी कुछ ही दिनों में काम हो सकती है। इसके लिए राधामोनी धनिया बीज के साथ कुछ चीजों को मिक्स करने सेवन करने की सलाह भी देती हैं और इसके फायदों के बारे में भी जानकारी देती हैं।

सामग्री 

ayurveda tips to reduce heat of body inside
  • धनिया के बीज-8 ग्राम दादरा पीस हुआ
  • पानी-50ml 
  • मिश्री- 1 चम्मच (रॉक मिश्री)

बनाने और इस्तेमाल करने के तरीके 

ayurveda tips to reduce heat of body inside
  • इसके लिए सबसे पहले पानी में धनिया बीज को मिक्स कर दीजिए।
  • मिक्स करने के बाद एक दिन के लिए छोड़ दीजिए। आप चाहें तो रात में धनिया के बीज को पानी में डालकर छोड़ सकती हैं।
  • अगले दिन पानी को छान लें और मिश्री को डालकर खाली पेट सेवन कर सकते हैं।

ड्रिंक पीने के फायदे 

ayurveda tips to reduce heat of body in

यह मिश्रण शरीर की गर्मी को आसानी से कम करने में मदद कर सकता है। इसके सेवन से त्वचा जलन की समस्या भी दूर हो सकती है। अत्यधिक प्यास की कमी को दूर करने में भी यह मिश्रण आपकी मदद कर सकता है। इसके अलावा पित्त प्रकृति के लिए भी बेस्ट साबित हो सकता है। हालांकि, इस आयुर्वेदिक उपचार के बारे में डॉक्टर रेखा राधामोनी कुछ और भी महत्वपूर्ण जानकारी दें रही है। इस आयुर्वेदिक टिप्स का सुझाव देते हुए वो कहती हैं कि गर्मी की वजह से अधिक जलन होने और उसमें सुधार करने के लिए किसी आयुर्वेदिक चिकित्सक से हमेशा परामर्श लेते रहना भी चाहिए।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

eleven − five =

Back to top button