अब निजी अस्पतालों में ₹250 में कोरोना वैक्सिन टीके की खुराक देश में कल से शुरू होगा अभियान

  • 60 साल से अधिक उम्र के बुजुर्गों और 45 साल  से अधिक के बीमार लोगों के लिए नया चरण

पहले चरण में 50 फ़ीसदी कामयाबी मिली है 1.42 करोड को 26 फरवरी तक टिका दिया जा चुका है कोरोना वैक्सिन टीकाकरण के पहले चरण में 41 दिन के भीतर 50 फिर भी कामयाबी मिली है इस चरण में तीन करोड स्वास्थ्यकर्मियों व अग्रिम पंक्ति के योद्धाओं को टीका लगाने का लक्ष्य था सरकारी आंकड़ों के मुताबिक 26 फरवरी तक 1.42 करोड से अधिक लोगों को टीका लग चुका है इसमें 1,17,88,669  को पहली बार 2453878 को दूसरी बार खुराक लग चुकी है।

  • यूपी में किसी की मौत नहीं 78 नए मरीज

उत्तर प्रदेश में शनिवार को कोरोना के 78 नए मरीज मिले पर एक भी संक्रमित की मौत नहीं हुई। प्रदेश में लगातार तीसरे दिन संक्रमितों की संख्या में कमी आई है, व 115 मरीजों को डिस्चार्ज होने के बाद अब 2147 एक्टिव मरीज ही बचे हैं। रिकवरी रेट बढ़ कर 98.2 प्रतिशत हो गया है।

  • देश में बड़ा संक्रमण

देश में 1 सप्ताह के भीतर 30,000 से अधिक संक्रमित सक्रिय मरीज बढ़े हैं। महाराष्ट्र में सबसे बुरी हालत है जहां 15 दिनों में सक्रिय मरीजों की संख्या दोगुनी हो गई है।  पंजाब, गुजरात, जम्मू-कश्मीर, पश्चिम बंगाल, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, तेलांगना में भी संक्रमित व्यक्तियों की संख्या लगातार बढ़ रही है।

देश में कोरोना वैक्सिन टीकाकरण अभियान का दूसरा चरण सोमवार से शुरू होगा 10,000 सरकारी केंद्रों पर मुफ्त और 20,000 निजी अस्पतालों में कीमत चुकाने पर यानी निर्धारित शुल्क जमा करने पर टिका लगवाया जा सकेगा। निजी अस्पताल एक खुराक का अधिकतम ₹250 ले सकेंगे इसमें ₹150 खुराक और ₹100 सेवा शुल्क होगा। इस तरह प्रति व्यक्ति टीके की दो खुराक के ₹500 लगेंगे। केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव राजेश भूषण ने आदेश जारी कर दिए हैं। यह व्यवस्था अग्रिम आदेशों तक जारी रहेगी। राज्य व केंद्र शासित प्रदेशों को जानकारी दे दी गई है टीकाकरण के दूसरे चरण में 60 वर्ष से अधिक उम्र के सभी बुजुर्गों का 45 वर्ष से अधिक उम्र के बीमार व्यक्तियों को टीका लगाया जाएगा।

  • इस बीच महाराष्ट्र में कोराेना बेकाबू होता जा रहा है। वहां के 36 जिलों में से 28 में वायरस का कहर जारी है।
  • 10 साल की डायबिटीज व 8 महीने के कैंसर मरीजों को लगेगी वैक्सीन
  • 10 साल से अधिक डायबिटीज, 8 महीने से कैंसर पीड़ित, बीते 1 साल में दिल का दौरा पड़ने के बाद अस्पताल में भर्ती मरीज शामिल होगें।
  • अनियंत्रित डायबिटीज, 2 साल से गंभीर सांस की बीमारी, अस्पताल में भर्ती दिल एवं किडनी तथा लीवर की सभी बीमारियों के मरीज शामिल होगें।
  • 1 जुलाई 2020 के बाद जिन मरीजों में कैंसर की पहचान हुई है तथा जो मरीज कैंसर की थेरेपी ले रहे हैं।
  • रक्त विकार यानी सिकलसेल थैलेसीमिया अथवा एचआईवी पीड़ित शामिल होगें।
  • प्रत्यारोपण के मरीज भी पात्र होंगे जैसे लीवर किडनी या स्टेम सेल प्रत्यारोपण करा चुके या कराने वाले मरीज को भी टीका लगाया जा सकेगा उच्च रक्तचाप के ऐसे रोगी जिनका उपचार चल रहा है वह भी टीका लगाने के पात्र होंगे।
  • कोरोना टीकाकरण के लिए रजिस्ट्रेशन अनिवार्य किया गया है, रजिस्ट्रेशन के लिए आधार, पैन कार्ड, वोटर आईडी समेत 12 दस्तावेजों को वैध माना गया है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

20 − one =

Back to top button