अनियमित पीरियड्स बन सकता है सर्वाइकल कैंसर का कारण, जानिए क्या हैं इसके लक्षण?

महिलाओं को अपने शरीर का ध्यान रखना चाहिए क्यूंकी ज़्यादातर माहिलाओ की मौत  का कारण कैंसर ही है। आप को बता दे कैंसर से होने वाली मौत का सबसे आम कारण सर्वाइकल कैंसर है।  बात करे आंकड़ों की तो आकड़ों के अनुसार अगर कोई महिला समय पर अपना इलाज नहीं कराती तो ये उनकी मौत का कारण बन सकता है। कैंसर होना कोई जरूरी नहीं की 40 वर्ष के उपर की ही महिला को हो। कैंसर 15 वर्ष से किसी भी उम्र की महिला को हो सकता है।  अब वो समय नहीं की कैंसर का इलाज नहीं आज कल हर मर्ज की दवा है और हर रोग का इलाज भी है।

क्या है सर्वाइकल कैंसर के लक्षण
अगर किसी महिला के वजाइना से असामान्य रूप से खून बहे तो यह एक मुख्य कारण हो सकता है। यदि यौन संपर्क के बाद वजाइना से रक्तस्राव होए तो भी यह एक कारण है। यदि आप को पीरियड्स सामान्य समय से ज्यादा अधिक समय तक हो रहे है तो एक बार अपने डॉक्टर से ज़रूर संपर्क करे।

कैसे फैलता है सरवाईकाल कैंसर?

ये सर्विक्स की लाइनिंग यानि महिला के यूटरस के नीचे के हिस्से को प्रभाव करता है। महिला के युटरस में दो कोशिकाए होती हैं- स्क्वैमस कोशिकाएं और स्तंभ कोशिकाएं। आप को बता दे गर्भाशय ग्रीवा के क्षेत्र में जहां सेल परिवर्तित होती है, मतलब एक सेल दूसरे सेल में परिवर्तित होता है उसे स्क्वेमो-कॉलमर जंक्शन कहा जाता है। यह एक ऐसा क्षेत्र है, जहां कैंसर के विकास की सबसे अधिक संभावना रहती है।  ये कैंसर धीरे धीरे विकसित होता है और अचानक एक दिन बढ़ जाता है।
एचपीवी(Human papillomavirus) संक्रमण यौन संपर्क या त्वचा के संपर्क के माध्यम से फैलता है। कुछ महिलाओं में गर्भाशय-ग्रीवा की कोशिकाओं में एचपीवी संक्रमण लगातार बना रहता है, आप को बता दे एचपीवी होने का खतरा सर्वाइकल के रोग का कारण बनता है।

महिला को तीन साल में एक बार  पैप का टेस्ट करा लेना चाहिए। अगर महिला को कैंसर होने का खतरा होता है तो वह पैप टेस्ट के द्वारा पता लगाया जा सकता है।

गर्भाशय-ग्रीवा के कैंसर का उपचार कई कारकों पर निर्भर करता है, जैसे कि कैंसर की अवस्था, अन्य स्वास्थ्य समस्याएं। ये कैंसर सर्जरी, विकिरण, कीमोथेरेपी से ठीक किया जा सकता है।

रोकने का सुझाव

अगर महिला तीन साल में एक बार पैप टेस्ट करा ले तो अगर ऐसा कुछ होता भी है तो समय पर इलाज हो सकता है और आप ठीक हो सकती है। अगर आप धूम्रपान का सेवन करती है तो इसे तुरंत छोड़ दें, सिगरेट में निकोटीन होता है जो आप के शरीर के लिए काफी घातक है, स्मोकिंग इम्यूनिटी को भी कमजोर करता है।
डाइट अच्छी ले फल, सब्जियों और पूर्ण अनाज से समृद्ध हेल्दी डाइट का सेवन करें लेकिन मोटापे से दूर रहें। बाहर के अनहेल्दी फूड से दूर रहे।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

4 × 5 =

Back to top button