अंतरराष्ट्रीय पर्यटकों के लिए यात्रा के नियमों में ढील देने की प्रक्रिया शुरू 

हेनले पासपोर्ट इंडेक्स ने ग्लोबल मोबिलिटी रिपोर्ट 2021 जारी की है. इसमें जापान और सिंगापुर ने टॉप पायदान हासिल किया है. वहीं भारत हेनले पासपोर्ट इंडेक्स में 90वें स्थान पर है. भारत पिछले साल से इस लिस्ट में 6 पायदान फिसल गया है.

हेनले पासपोर्ट इंडेक्स की लिस्ट हुई जारी

बता दें कि हेनले पासपोर्ट इंडेक्स में जर्मनी और साउथ कोरिया दूसरे नंबर हैं. फिनलैंड, इटली , स्पेन और लक्जमबर्ग तीसरे स्थान पर हैं. डेनमार्क  इस लिस्ट में चौथे पायदान पर है. वहीं फ्रांस, आयरलैंड, नीदरलैंड, पुर्तगाल और स्वीडन पांचवें स्थान पर हैं.

अच्छा नहीं रहा भारत के पड़ोसी देशों का प्रदर्शन

जान लें कि हेनले पासपोर्ट इंडेक्स में पिछले साल भारत 84वें स्थान पर था. भारत के पड़ोसी देशों का प्रदर्शन भी इस लिस्ट में अच्छा नहीं है. हेनले पासपोर्ट इंडेक्स में भूटान 96वें, म्यांमार 102वें, श्री लंका 107वें, बांग्लादेश 108वें, नेपाल 110वें, पाकिस्तान 113वें और अफगानिस्तान सबसे आखिरी 116वें स्थान पर है.

हेनले पासपोर्ट इंडेक्स में आईएटीए की भूमिका

गौरतलब है कि हेनले पासपोर्ट इंडेक्स ऐसे समय में जारी की गई है जब ज्यादातर देश कोरोना वायरस से जूझने के बाद अंतरराष्ट्रीय टूरिस्ट्स के लिए यात्रा के नियमों में ढील देना शुरू कर रहे हैं. हेनले पासपोर्ट इंडेक्स की रैंकिंग एयर ट्रांसपोर्ट एसोसिएशन की तरफ से उपलब्ध करवाए गए आंकड़ों पर आधारित है.

पासपोर्ट के मामले में दस सबसे पावरफुल देश जापान, सिंगापुर, जर्मनी, साउथ कोरिया, फिनलैंड, इटली, लक्जमबर्ग, स्पेन, फ्रांस और आयरलैंड हैं. वहीं सबसे कमजोर पासपोर्ट वाले देश अफगानिस्तान, इराक, सीरिया, पाकिस्तान, यमन, सोमालिया, फिलिस्तीन, नेपाल, नॉर्थ कोरिया और लीबिया हैं.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

17 + five =

Back to top button